Sunday, November 22, 2020

दो वर्षों से अनवरत भूखों को निःशुल्क भोजन बांट रहा भईया जी का दाल भात परिवार


संगम, प्रयागराज। तीर्थराज प्रयागराज में भईया जी का दाल भात परिवार एकमात्र ऐसा संगठन बन गया है जोकि दो सालों से प्रतिदिन हजारों भूखों को ताजा व पौष्टिक एवं भरपेट निःशुल्क भोजन वितरित कर रहा है। जानकारी के अनुसार बंधवा वाले हनुमान जी के मंदिर के बगल नाविक संघ कार्यालय पर यह अन्न क्षेत्र प्रतिदिन चलाया जा रहा है जहां भूख मुक्त भारत का संकल्प, भईया जी का दाल भात परिवार के सहयोगी स्वयं भूखी मानवता की सेवा करते हैं।

बता दें कि आज का भोजन प्रसाद वितरण परिवार के विशेष सहयोगी आरके पाण्डेय जी (इंजीनियर) के पूज्य पिताजी आदरणीय श्री ओम प्रकाश पाण्डेय जी ग्राम मनसैता सहसो प्रयागराज के शुभ जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में आरके पाण्डेय जी के सहयोग से सम्पन्न हुआ।

तीर्थपति प्रयागराज महराज जी के दरबार में, पवित्र त्रिवेणी संगम के तट पर, अक्षयवत की शीतल छाव में, ऋषभ देव भगवान की तपोस्थली पर, लेटे हुए हनुमान मन्दिर के सामने, नियमित रूप से गरीब, असहाय, कमजोर, दिव्यांग, बुजुर्ग, तीर्थयात्री,एवं जरूरतमंद लोगों को समाज के सहयोग से मुफ्त में भोजन प्रसाद वितरण कर सेवा किया जा रहा है। भईया जी का दाल भात परिवार प्रयागराज महराज से बाबूजी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाई के साथ साथ पूरे परिवार की सुख, शान्ती,यश, कीर्ति, वैभव, आरोग्यता एवं दीर्घायु जीवन की कामना करता है। आईए आप भी एक मुठ्ठी अन्न से लेकर अपने श्रद्धा के अनुसार सहयोग कर भूख से पीड़ित मुरझाए चेहरे पर खुशी लाने के इस सार्थक प्रयास में हमारा सहयोग करें।

इस अन्न क्षेत्र के संयोजक गुड्डू मिश्र का कहना है-

"मर जाऊं मांगू नहीं अपने तन का काज।

परमारथ के काज में मोहि न आवत लाज।।"

  जनसहयोग हेतु इस अन्न क्षेत्र द्वारा सम्पर्क करने हेतु- 9838848771, 9335108390 दो हेल्प लाइन नम्बर भी जारी किए गए हैं।

No comments:

आधुनिकता के दौर में कहां गई डोली और कहां गए कहार

बदलते परिवेश और आधुनिकता ने अपनी पुरानी पहचान और संस्कृति को मानो काफी पीछे छोड़ दिया है जैसे बात करते हैं डोली का  आने वाले पीढ़ी डोली को  ...