Tuesday, May 5, 2020

सरकार से सम्मानजनक वार्ता तक हड़ताल स्थगित - प्रेमशंकर सिंह।

हड़ताल से वापस आना शिक्षकों के लिए दुर्भाग्यपूर्ण --- राजेश कुमार पासवान।
http://www.ahaannews.com/
http://www.ahaannews.com/
वैशाली 05 मई,2020/ बिहार में प्राथमिक से लेकर उच्चमाध्यमिक स्तर के स्थायी और नियोजित शिक्षको के ऐतिहासिक हड़ताल के आकस्मिक, असम्मानजनक, अशिष्टतापूर्ण और दुःखद अंत पर गहरा क्षोभ व्यक्त करते हुए बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के अघ्यक्ष मंडल सदस्य सह टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ गोपगुट के जिलाअघ्यक्ष श्री प्रेमशंकर सिंह ने बिहार सरकार की शिक्षक विरोधी नीतियों की कड़ी आलोचना की है और शिक्षकों के द्वारा प्रदर्शित चट्टानी एकता का क्रांतिकारी वहीं अध्यक्ष मंडल के सभी सदस्यों ने इस बात पर घोर आश्चर्य व्यक्त किया है कि समन्वय समिति के प्रदेश संयोजक ब्रजनदन शर्मा ने प्रदेश कोर कमिटी को बिना सूचना एवं किसी सम्मानजनक समझौते के,नौकरशाही की अपील पर हडताल वापस ले ली गई ।
http://www.ahaannews.com/
http://www.ahaannews.com/
इस हड़ताल वापसी ने बिहार के शिक्षकों, खासकर तीन लाख नियोजित शिक्षकों के अरमानों और सपनों को चकनाचूर कर दिया है।हड़ताल के दरम्यान करीब छः दर्जन शहीद शिक्षको के परिवारों के लिए घोर अपमानजनक स्थिति पैदा हो गई है। निश्चय ही इस प्रकार की हडताल वापसी ने भविष्य के शिक्षक आंदोलनों और संघर्षों को भी दाँव पर लगा दिया है। कोरोना महामारी के नाम पर शिक्षकों की आर्थिक माॅगों को स्थगित करने की दलील तो कुछ-कुछ समझ में आती है।
http://bharatnavnirman.co.in/
http://bharatnavnirman.co.in/
लेकिन सेवाशर्त नियमावली में सुधार,पद नाम तथा पंचायतीराज के शिकंजे से मुक्त कर सरकारी कर्मी घोषित करने जैसी गैरवित्तीय माँगों पर कोई चर्चा नहीं  करना शिक्षकों के साथ ज्यादती है। इसका मतलब साफ है कि बिहार के सम्मानित शिक्षकों के साथ आदिमकालीन गुलामों की तरह वर्ताव को ही अपनी श्रेष्ठता का मानदण्ड समझने वाली सरकार के लिए राज्य में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा- व्यवस्था को कायम रखने में कोई रूचि नही है।
http://vaishalidairy.co.in/
http://vaishalidairy.co.in/
टीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संंघ गोपगुट संघ के जिला उपाध्यक्ष बिमलेश कुमार सिंह, शिवचंद्र राय, जिला सचिव संजीव कुमार, जिला कोषाध्यक्ष रणविजय कुमार, जिला महासचिव पंकज कुमार, जिला संयोजक दिनेश कुमार ओझा, जिला उपाध्यक्ष रणबीर पासवान, जिला सचिव रमन शर्मा, राघोपुर प्रखंड अध्यक्ष मनीष कुमार यादव, प्रखंड सचिव मोo आजम, लालगंज प्रखंड अध्यक्ष विवेक कुमार, गोरौल प्रखंड अध्यक्ष नरेंद्र कुमार, वैशाली प्रखंड अध्यक्ष मनीष कुमार, महुआ प्रखंड अध्यक्ष प्रीतम झा, बेलसर प्रखंड अध्यक्ष नरेंद्र कुमार सिंह, चेहरा कलां प्रखंड अध्यक्ष फैजआलम, देसरी प्रखंड उपाध्यक्ष विजय कुमार, राजापाकर प्रखंड अध्यक्ष संतोष कुमार, सहदेई प्रखंड अध्यक्ष संजय कुमार यादव,  जिला मीडिया प्रभारी राजेश कुमार पासवान आदि ने इस बात पर भी असंतोष व्यक्त किया है कि कथित समझौते में शहीद शिक्षक  परिवारों की क्षतिपूर्ति की बात तो दूर संवेदना के दो शब्द भी अंकित नहीं किये गये हैं । अंत मे शिक्षकों से अपनी एकता बनाये रखने और निराशा से बचने की अपील करते हुए कहा है वे गंभीरता से भविष्य की रणनीतियों पर विचार करें । सरकार से सम्मानजनक वार्ता तक हड़ताल स्थगित किया जाता है।

No comments:

पंच, सरपंच, उपसरपंच एवं न्याय मित्र, न्याय सचिव द्वारा जनहित राज्य व राष्ट्रहित में : अमोद कुमार निराला

http://www.ahaannews.com/ स्वच्छ भारत निर्माण परिषद एवं टीम जयपुर राजस्थान द्वारा राजापाकर प्रखंड क्षेत्र के रामपुर रत्नाकर सरसई गढ नि...