Friday, August 23, 2019

लिपि सिंह की लोकप्रियता की कहानी पर भारी पड़े अनंत सिंह : आशुतोष कुमार

लिपि सिंह को हीरो बनाने के प्रयास में पूरी राजनीतिक तत्र लगी हुई थी, लेकिन अनंद सिंह राजनीतिक षड्यंत्र को तोड़ते हुए, 7 दिनों के बाद दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर किया : आशुतोष कुमार, राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष कुमार, भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच फाउंडेशन के द्वारा बताया गया। आशुतोष कुमार ने बताया कि लिपी सिंह जदयू के राज्यसभा सांसद की पुत्री हैं और कुछ अन्य सांसदों की मिली भगत से षड्यंत्र के तहत फंसाया जा रहा है। लेकिन अनंत सिंह ने आज लिपी सिंह की राजनीतिक पैरवी और अनंत सिंह की गिरफ़्तारी के साथ-साथ हिरोईन पुलिस पदाधिकारी बनने का सपना चकनाचूर हो गया।
अनंत सिंह के साथ भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच फाउंडेशन
अनंत सिंह के साथ भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच फाउंडेशन

मोकामा विधायक अनंत सिंह ने 7 दिनों  बाद दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। पुलिस अनंत सिंह का बिहार और झारखंड में इंतजार करती रही और अनंत सिंह दिल्ली पहुंच गए।


सर्व विदित हो कि एके 47 मामले मे फरार चल रहे मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह ने आत्मसमर्पण कर दिया है। प्राप्त हो रही जानकारी के मुताबिक उन्होंने दिल्ली की साकेत कोर्ट में सरेंडर किया है। आपको बता दे कि अनंत सिंह के लदमा पैतृक आवास से छापेमारी में एके 47 और हैंड ग्रेनेड मिला था। 
अनंत सिंह साकेत दिल्ली कोर्ट परिसर में सरेंडर किया
अनंत सिंह साकेत दिल्ली कोर्ट परिसर में सरेंडर किया

इस के बाद से पुलिस को उनकी तलाश थी। गिरफ्तारी से पूर्व जारी अपने तिसरे विडियो मे निर्दलीय विधायक अनंत सिंह ने कहा था कि मोकामा में एक सांसद व अन्य लोगों ने मीटिंग की है। जिसमें दो हथियार मंगाये गये और एक हथियार मेरे गोतिया जसवीर व कर्मवीर को दे दिया गया। जबकि, दूसरा हथियार उनको देकर पुलिस कोर्ट में उपस्थित कराने की कोशिश में हैं। इसलिए वह किसी सूरत में पुलिस के समक्ष सरेंडर नहीं करेंगे। 

इस मामले में पुलिस को चकमा देकर फरार चल रहे विधायक अनंत सिंह के किसी भी वक्त सरेंडर करने की चर्चा गुरुवार को भी दिन भर होती रहीं।

अनंत सिंह एक प्रभावी व्यक्ति हैं और एक सशक्त रूप से राजनीति में अपनी जगह बनाई है
अनंत सिंह एक प्रभावी व्यक्ति हैं और एक सशक्त रूप से राजनीति में अपनी जगह बनाई है



7 दिनों बाद किया सरेंडर दिल्ली के साकेत कोर्ट में


अनंत सिंह ने यह पहले ही ऐलान किया था कि वो पटना पुलिस के हाथों नहीं आने वाले हैं। अनंत सिंह के पैतृक गांव नदवां गांव के घर से एके 47, हैंड ग्रेनेड और कारतूस मिलने के बाद से अनंत सिंह को पिछले शनिवार को गिरफ्तार करने पुलिस उनके घर पहुंची थी। लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले ही अनंत सिंह विधायक आवास से फरार हो चुके थे। अनंत सिंह पिछले 7 दिनों से पुलिस को चकमा दे रहे थे। लेकिन पुलिस उन तक नहीं पहुंच पा रही थी।

एक वक्त था जब अनंत सिंह के सामने नीतीश कुमार हाथ जोड़कर खड़े रहा करते थे। उसी नीतीश कुमार को बनाने के लिए यही बाहुबली अनंत सिंह ने की बार सरकार बचाई  और एक बार सोने से तौल दिया था
एक वक्त था जब अनंत सिंह के सामने नीतीश कुमार हाथ जोड़कर खड़े रहा करते थे। उसी नीतीश कुमार को बनाने के लिए यही बाहुबली अनंत सिंह ने की बार सरकार बचाई  और एक बार सोने से तौल दिया था


आशुतोष कुमार ने कहा अनंत सिंह भूमिहार ब्राह्मण समाज के एक मजबूत स्तंभ हैं और नीतीश कुमार का संरक्षक रहे हैं। लेकिन नीतीश कुमार की राजनीति बहुत ही निम्न स्तर की रहीं हैं। जिसने नीतीश कुमार को पाला उन सबों को डंक मारते हैं। वहीं बिहार पुलिस की गुंडागर्दी और अपराधियों को संरक्षण देकर, अपराध का ग्राफ बढ़ाया जा रहा है। आने वाला समय अनंत सिंह की बेगुनाही की गाथा लिखेंगा। अब कानून अनंत सिंह लड़ाई लड़ेंगे।
भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष कुमार सदैव भूमिहार ब्राह्मण समाज के साथ
भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष कुमार सदैव भूमिहार ब्राह्मण समाज के साथ

फिर भी हमारा निर्धारित समयानुसार कार्यक्रम चलता रहेगा। अनंत सिंह को जिस राजनीति के तहत फंसाया जा रहा है, उससे सत्यता के साथ बिहार निकलना है। आगे लड़ाई जारी रहेगी। भूमिहार ब्राह्मण एकता मंच फाउंडेशन सदैव भूमिहार समाज की तरक्की के लिए कार्यरत रहेगी। अनंत सिंह आप सदैव समाज का नेतृत्व किए हैं और आपके साथ हम सब खड़े हैं।

No comments:

वैशाली जिलाधिकारी से नहीं चल रही जिले की व्यवस्था, विभिन्न स्तरों पर युवाओं ने संभाला बागडोर

हो सकता हैं बड़ी दुर्घटना, वैशाली को झेलना पड़ सकता हैं महामारी, संकट रोकने में विफल जिला प्रशासन एक सप्ताह में लाखों लोगों क...